जाट सिख

सिख धर्म के अनुयायी जाट समुदाय को जाट सिख या पंजाबी भाषा में जट्ट सिक्ख (गुरमुखी: ਜੱਟ ਸਿੱਖ) कहा जाता है। जाट सिख मुख्यतः भारत के पंजाब, उत्तरी राजस्थान, हरियाणा, दिल्ली और पश्चमी उत्तर प्रदेश के निवासी हैं। जट्ट सिक्ख (जाट) पाकिस्तान के पूर्वी भागों में भी बहुतायत संख्या में है। पंजाबी सिख दलितों के बाद जाट सिख भारतीय पंजाब की सबसे बड़ी आबादी है।

इतिहास

ब्रिटिश राज काल की जनगणना के अनुसार, अधिकांश सिख जाट, हिंदू धर्म से सिख धर्म में आये हैं। पंजाब क्षेत्र के हिंदू, मुस्लिम और सिख समुदायों और जाटों और राजपूतों जैसे समुदायों के बीच संबंध कई सदियों से अस्पष्ट रहे हैं। विभिन्न समूह अक्सर अपनी विशिष्टता का दावा करते हुए समान उत्पत्ति का दावा करते हैं।

कुछ जाटों ने छोटी संख्या में गुरु नानक की शिक्षाओं का पालन करना शुरू कर दिया और ये खालसा के गठन के बाद सामिल हो गए। उन्होंने 18वीं शताब्दी के बाद से मुगल साम्राज्य के खिलाफ प्रतिरोध के मोर्चे का गठन किया, जाटों ने छठे गुरु, हरगोबिंद की अवधि के दौरान बड़ी संख्या में सिख धर्म में शामिल होना शुरू किया।

एक झलक इधर भी

जाट
महाराजा रणजीत सिंह
हरि सिंह नलवा