Radius: Off
Radius:
km Set radius for geolocation
Search

सेवा भाव ही मनुष्य का पहला कर्तव्य- राजेन्द्र तुसीर

सेवा भाव ही मनुष्य का पहला कर्तव्य- राजेन्द्र तुसीर

नई दिल्ली। मनुष्य में सेवा भाव निस्वार्थ भावना से होना चाहिए लेकिन कुछ ही लोगों में यह भावना पाई जाती है। नेकी कर दरिया में डाल ये विचार कुछ ही लोगों के जीवन का आधार होते है। ऐसे ही विचारों को जब हम खोजने निकले तो हमारी मुलाकात हुई अलीपुर के राजेन्द्र सिंह तुसीर से। बीएसएनएल से रिटायर्ड (सेवा-निवृत्ति) होने के बाद आप पूर्ण रूप से समाज सेवा में समर्पित हो गए। आप आज भी अपने विभाग के सरकारी कर्मचारियों के हितो के लिए प्रयासरत्त रहते है।
राजेन्द्र सिंह का जन्म एक साधारण से जाट परिवार में 8 जनवरी 1956 को गांव नांगल कलां, जिला सोनीपत हरियाणा में हुआ। उनके पिता चौधरी हरदेव सिंह गांव के समृद्ध किसान थे। उनकी माता जी श्रीमति लक्ष्मीदेवी गांव हलालपुर जिला सोनीपत के समृद्ध परिवार से थीं। राजेन्द्र सिंह तुसीर को बचपन से ही परिवार से ईमानदारी व सख्त मेहनत से अपनी मंजिल हासिल करने की तालीम मिली। प्रारंभिक शिक्षा तो नांगल कला के स्कूल से ही हासिल की जिसके बाद सोनीपत से विश्वविद्यालय स्तर की शिक्षा हासिल की। वर्ष 1981 में बीए करने के बाद डाक विभाग की एसएएस की समक्ष परीक्षा पास करने के बाद डाक विभाग में कार्यरत हुए। सन 1981 से 98 तक डाक विभाग दिल्ली में कनिष्ठ लेखाधिकारी के पद पर कार्य किया। जिसके बाद 1995 से 2005 तक मुंबई- दिल्ली में एमटीएनएल में लेखाधिकारी के पद पर कार्यरत रहे। इनकी मेहनत का ही नतीजा रह है कि वर्ष 2005 से 07 तक बीएसएनएल मुंबई में राजपत्रिक अधिकारी के पद पर कार्य किया जिसके बाद आप 2007 से 2016 तक बीएसएनएल गाजियाबाद, उत्तर प्रदेश में कार्यरत रहे। हाल ही में आप भारतीय बीएसएनएल ऑफिसर्स एसोसिएशन के चेयरमैन है। व बीएसएनएल कर्मचारियों की समस्याओं को लेकर लगातार कार्यालय से पत्राचार करते रहते है।
इसके साथ ही साथ राजेन्द्र तुसीर जी का खेलों सी भी काफी प्रेम है। यहीं कारण है कि वे गांव नांगल कलां स्पोर्टस कमेटी के लाइफ मेंबर है तथा नांगल कलां में हर साल होने वाली कुश्ती प्रतियोगिता में प्रमुख भूमिका अदा करते हैं। इसके अलावा वे अपने जाट समाज के विकास के लिए भी काफी प्रयासरत रहते है। वर्तमान में वे भारतीय बीएसएनएल ऑफिसर्स एसोसिएशन के जनरल सेक्रेट्री है तथा समय -समय पर बीएसएनएल कर्मचारियों के परेशानियों को पत्र व्यवहार के द्वारा सरकार व संबंधित विभाग के संज्ञान में लाते रहते है तथा उन समस्याओं के समाधान का हर संभव प्रयास करते रहते हैं। आपकी खेलों में भी काफी रूची रहीं है जिसके कारण क्षेत्रीय स्तर पर कब्बडड्ी , वॉलीबाल, कुश्ती आदि खेलों में भी काफी भाग लिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked