Radius: Off
Radius:
km Set radius for geolocation
Search

भारत को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पदक दिलाना ही एक मात्र लक्ष्य- रीतू

भारत को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पदक दिलाना ही एक मात्र लक्ष्य- रीतू

सोनीपत। भारत में जब कोई किसी खेल में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर विजय हासिल करता है तो भारत सरकार व भारतवासी उसे अपनी पलकों भी बिठाते है उसको वो सब देते है जो उसने कभी सपने में भी नहीं सोचा होगा लेकिन यह भारत का दुर्भाग्य कहें या फिर खिलाडिय़ों को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर जाने से पहले उन्हें हर समस्याओं से खुद जूझना पड़ता है। खेलों में बेहतर होने के बावजूद भी सरकार की आरे से कोई मदद नहीं मिलती या कहें सुविधा। यहीं कारण है कि ना जाने कितने लोग काबिल होते हुए भी परिस्थितियों के आगे घुटने टेक देते है। इसी का उदाहरण हम अकसर अखबारों में पढ़ते है जब कोई खिलाड़ी नेशनल लेवल पर भी गोल्ड जीत कर मजदूरी करने या फिर पान सिंह तौमर बनने पर मजबूर होता हैं। हमें तारीफ करनी होगी की केवल अपने परिवार व मौजूदा स्थितियों से लड़कर भी कुछ बच्चें खेलों में बेहतर कर रहें है चाहें स्कूल लेवल पर ही हो लेकिन वे अपना रास्ता खुद बना रहें हैं। हम आज आपको ऐसी ही एक लड़की से मिलवाते हैं नाम हैं रीतू । हरियाणा के सोनीपत की गन्नौर शहर में अशोक कुमार की पुत्री है रीतू । घर के पास ही ग्राउंड में अपने खेलने के जुनून को पूरा करती है जिसका परिणाम खेलों में उसके गोल्ड मेडल के रूप में सामने आता हैं। रीतू एथलीट में १०० मीटर दौड़ती हैं। अभी वह ग्यारहवीं में पढ़ रही है खेल के साथ साथ पढ़ाई में भी अच्छी है रीतू। रीतू के बारे में उसे प्रशिक्षण देने वाले सतीज जी बताते हैं कि वह शुरू से काफी प्रतिभाशाली है। उसकी इसी प्रतिभा को देखकर उन्होंने रीतू को एथलीट १०० मीटर में तैयारी करने के लिए प्रोत्साहित किया। रीतू आर्थिक रूप से इतनी सशक्त नहीं है कि वह किसी एकेडमी में जाकर तैयारी कर सकें। जिसके कारण वह घर के पास ही ग्राउंड में प्रेक्टिस करती हैं। परिवार का पूरा साथ मिलता हैं। यहीं कारण है कि रीतू ने खेलों में बढ़-चढ़कर हिस्सा लेती है ओर गोल्ड पर कब्जा करके अपने परिवार का नाम रोशन करती हैं। जब रीतू से पूछा गया कि उनका लक्ष्य क्या है तो उन्होंने बताया कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भारत का नाम रोशन करना ही उनका एक मात्र लक्ष्य हैं। वह सरकार से भी विनती करती है कि उनकी परिवार की आर्थिक स्थिति सही नहीं है लेकिन अगर सरकार की ओर से कुछ मदद मिल जाए तो वह अपने खेल में अभी से बहुत बेहतर प्रदर्शन कर सकती हैं।

– बिजनौर, पानीपत , मोदीनगर यूपी, हापुड यूपी, देहरादून, सहारनपुर और लखनऊ, हरिद्वार आदि जगह पर आयोजित खेल प्रतियोगिता में भाग लेकर प्राप्त किए मेडल। कर प्रथम स्थान प्राप्त किया। इसके अलावादूसरे
– नेपाल (काठमांडू) की धरती पर प्राप्त किया गोल्ड मेडल।

 

surender singh- 8851350699

jatjagran2017@gmail.com

Comments (1)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked